क्या आप अपने बच्चे की नींद को नियमित करना चाहते हैं? रोशनी ही आपको बचा सकती हैं।

0
159
नीली चादर पर सोते हुए बिस्तर पर लेटी मुस्कुराती बच्ची
नीली चादर पर सोते हुए बिस्तर पर लेटी मुस्कुराती बच्ची
बिस्तर पर लेटी मुस्कुराती हुई बच्ची नीली चादर में सो रही है

एक नई माँ को ज्यादा मात्रा में ऊर्जा की जरुरत होती है। एक रात की अच्छी नींद की तरह और कुछ भी ऊर्जा नहीं दे सकता है ! बेशक, एक नई माँ के रूप में, आप कब सोती हैं, यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करता है कि आपका बच्चा कब सोता है। इसलिए, यदि आप अपनी ऊर्जा के स्तर में सुधार करना चाहते हैं, तो आपको अपने बच्चे की स्लीप पैटर्न को समझना होगा और यह पता लगाना होगा कि अपने स्वयं के सोने के पैटर्न को अपने बच्चे के साथ कैसे मिलाए।

अधिकांश बच्चे दिन के दौरान लंबी झपकी लेते हैं और रात भर जागते रहते हैं। उनके अनियमित नींद के पैटर्न के प्रमुख कारणों में से एक यह है कि वे प्रकाश और अंधेरे के बीच अंतर नहीं कर सकते हैं।

ज्यादातर बच्चे दिन में लंबी नींद ले लेते हैं और रात भर जागते रहते हैं। उनके अनियमित सोने के पैटर्न का एक प्रमुख कारण यह है कि वे रोशीनी और अंधेरे के बीच अंतर नहीं कर पाते हैं। बेशक, यह शायद ही चिंता का कारण है! आपको बस इतना करना है कि छोटे-छोटे बदलाव करें जो आपके रात को जागने वाले छोटे बच्चे (रात के उल्लू) को रोशनी देखने में मदद करें।

और हमारा मतलब है कि, सचमुच अंधेरा मेलाटोनिन को ट्रिगर करता है जो एक महत्वपूर्ण नींद का हार्मोन है। दूसरी तरह से देखें तो, द नो-क्राई स्लीप सॉल्यूशन की लेखिका एलिजाबेथ पेंटली ने सुझाव दिया है कि रोशनी आपके बच्चे के जैविक ‘गो’ बटन को खोलती है। तो, ये रही तरकीब: अपने बच्चे के दिन उज्ज्वल, सक्रिय और सामाजिक रखें जबकि उसकी रातें अंधेरी हों और वह जल्दी से पहचान लेगा कि कब सोने का समय है। एक बार जब आपका बच्चा कुछ सप्ताह का हो जाए, तो आप उसे दिन और रात के बीच का अंतर सिखाना शुरू कर सकती हैं। इससे उसे एक स्वस्थ नींद का पैटर्न बनाने में मदद मिलेगी।

इन आसान टिप्स का पालन करें:

1. दिन के समय, पर्दे खोल दें और अपने घर में भरपूर धूप को आने दे या, सबसे अच्छा, उसे बाहर ले जाएं। ओ टू जेड बेबी एंड यू के लेखक, डॉ महेश बालसेकर और मालविका चौधरी का सुझाव है कि दिन और रात का माहौल अलग होना चाहिए ताकि बच्चा रात के समय को सोने के समय के रूप में पहचान सकें। हालांकि, अपने बच्चे को दिन में झपकी लेने देना पूरी तरह से ठीक है, बस यह सुनिश्चित करें कि कमरे में अच्छी तरह से रोशीनी हो।

  1. रात में सुस्ती पैदा करने के लिए, शाम को रोशनी कम करें (सोने से दो घंटे पहले तक), बस मूड सेट करने के लिए। अपने बच्चे के कमरे में नाइट-लैंप लगाना ठीक होगा, लेकिन ऐसा चुनें जो छोटा, मंद और छुने में ठंडा हो। (पुनश्च। इसे अपने बच्चे के बिस्तर के पास न रखें।) 4. यदि आपका छोटा बच्चा रात में जागता है, तो रोशनी चालू न करें या बच्चे को ज्यादा रोशनी वाले कमरे में न ले जाएं। अंधेरे से रोशनी में बदलाव आपके बच्चे के मस्तिष्क को बताता है कि यह जागने का समय है। इसके बजाय, उसे वापस अंधेरे बेडरूम में सोने के लिए ले जाए। 5. रेशम, कपास या लिनन जैसे प्राकृतिक कपड़ों से बने कमरे में गहरे रंग के या मोटे पर्दे, उन बच्चों के लिए ठीक काम करते हैं जो सुबह की धूप के साथ उठते हैं। डॉ महेश बालसेकर भी शांत वातावरण बनाए रखने के महत्व पर जोर देते हैं। तो, पूरा विचार यह है कि आप अपने बच्चे को रोशनी और अंधेरे के बीच के अंतर के बारे में समझाए। इस तरह जब आप कमरे में अंधेरा करते हैं, तो आपका बच्चा जानता है कि यह सोने का समय है! उपरोक्त तरकीबों का इस्तेमाल किया लेकिन अंधेरी रात के अंत में ‘रोशनी ‘ नहीं दिखी? अपने बेटर हाफ को साबित करने का समय आ गया है कि वह बेहतर है!

एक तरकीब है: हमारे विशेष मॉरिसन बेबी ड्रीम्स कम्फर्ट फीड ब्रेस्ट पंप से आराम से अपना दूध निकाले और इसे स्टोर करें। वोइला! अपने प्यारे पति को जागने दो और नन्हे-मुन्नों को संभालने दो ! आप इस आरामदायक, आसान और हल्के वजन वाले इलेक्ट्रिक पंप को यहां से खरीद सकते हैं https://www.jlmorison.com/shop/comfort-feed-electric-breast-pump.html

इस तरह स्मार्ट माताओं को अपने हिस्से का आराम मिलता है। सही हैं ना?

सशश, शुभ रात्रि माँ!

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here